डीहढग्गूपुर हत्याकांड में आनंद सेन, पूर्व मंत्री समेत कई पहुंचे मृतक के घर

0
207

शीघ्र ही आईजी जोन से मिलकर मामले की देंगे जानकारी आनंद सेन, पीड़ित परिवार को 25 लाख ₹ की मदद करें सूबे की सरकार:-आनंद सेन

योगेश यादव

(सुल्तानपुर)- डीहढग्गूपुर हत्याकांड के मामले में आज पूर्व मंत्री राम रतन यादव, पूर्व विधायक आनंद सेन यादव ,यादव महासभा के प्रदेश अध्यक्ष राम शंकर यादव व पूर्व सपा अध्यक्ष प्रो राम सहाय यादव समेत सैकड़ों लोग पीड़ित के चौखट पहुंचकर ढांढस बंधाया। प्रतिनिधिमंडल के अगुआ पूर्व विधायक आनंद सेन यादव ने रोष व्यक्त करते हुए घटना की कड़ी शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि वह इस जघन्य हत्याकांड से काफी दुखी व व्यथित हैं। समाज को ऐसे दोषी अपराधियों का बहिष्कार करना चाहिए वहीं आनंद सेन यादव ने स्थानीय पुलिस की भूमिका पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि यदि धारदार हथियार का इस्तेमाल शरीर के गले ,धड़, पैर पर हुआ था तो धारा 307 लगाने के बजाय हल्की धाराओं में मुकदमा क्यों दर्ज किया गया। उन्होंने पुलिस प्रशासन को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि इस घटना में शामिल अन्य लोगों को भी बराबर का दंड मिलना चाहिए ।श्री सेन ने कहा कि वह इस घटना के सिलसिले में आईजी जोन अयोध्या ओंकार नाथ सिंह से शीघ्र मिल कर मामले में कड़ी कार्रवाई की बात रखेंगे ।उन्होंने एक सवाल के जवाब में बताया कि अंग्रेजों के शासन के काल के बाद भी गरीबों पर अत्याचार रुक नहीं रहा है ।योगी सरकार से उन्होंने मांग की कि पीड़ित परिवार के लोगों को तत्काल 2500000 रुपए आर्थिक अनुदान दिया जाए। उन्होंने आगे जोड़ा की सामन्तवादियों की जुल्म ज्यादती का उदाहरण इससे बड़ा और क्या होगा, अंग्रेज चले गए लेकिन अंग्रेजियत अभी नही गयी।यूपी की कानून व्यवस्था का अंदाजा इस घटना से लगाया जा सकता है।उन्होंने कहा कि यहां के गरीब, पिछड़े, अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों को मिलकर लड़ना पड़ेगा और ऐसी घटनाओं का सामना करने के लिए मुकाबला करना पड़ेगा।हम लोग पीड़ित परिवार के साथ हैं।इस मौके पर पूर्व मंत्री राम रतन यादव,यादव महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष राम शंकर यादव, जिला पंचायत सदस्य राज कुमार यादव ,पूर्व बसपा जोनल क्वार्डिनेटर दिलीप कुमार विमल,पूर्व बसपा अद्यक्ष ओपी गौतम,यादव महासंघ के अद्द्यच दयाराम यादव, लाल जी वर्मा,बृजेश यादव, रंजीत यादव लखीपुर समेत सैकड़ों मौजूद रहे।

क्या था डीहढग्गूपुर हत्याकांड

बताते चलें कि गोसाईगंज थाना क्षेत्र के डीहढग्गूपुर गांव में पखवारे भर पूर्व दबंगों ने गांव के वंशराज यादव(60) की बांके से जानलेवा हमला कर दिया था। जिनकी इलाज के दौरान ट्रामा सेंटर में मौत हो गई।यह घटना काफी बर्बर तरीके से हुई थी। हालांकि एक अभियुक्त की गिरफ्तारी हो चुकी है ।हत्याकांड में डरी सहमी दो अविवाहित बेटियों ने पुलिस प्रशासन से जानमाल की गुहार लगाई थी। दबंगों की दहशत का आलम इस कदर था कि जब सरकारी एंबुलेंस घटनास्थल पर पहुंचती है तो दहशत के कारण गांव में कोई भी व्यक्ति जमीन पर तड़प रहे घायल को एंबुलेंस में लादने के लिए तैयार नहीं था ।लेकिन एंबुलेंस के कर्मी के निवेदन पर कुछ लोग आगे आए और घायल को स्ट्रेचर से बांध के गाड़ी के अंदर रखवाया ।हत्याकांड में अभियुक्तों ने दो कदम आगे बढ़ते हुए सरिया में बंधी गाय की भी हत्या कर दी थी ।इस मामले ने धीरे-धीरे तूल पकड़ लिया और पूर्व समाज कल्याण मंत्री लाल यादव की अगुवाई में समाजवादी पार्टी ने 4 सदस्य प्रतिनिधि मंडल का गठन किया जिसमें लाल यादव समेत एमएलसी शैलेंद्र प्रताप सिंह पूर्व विधायक अरुण वर्मा तथा जिला अध्यक्ष रघुवीर यादव शामिल रहे। बताते चलें कि कूरेभार की जिला पंचायत सदस्सय कमला यादव ने सबसे पहले इस मामले में तेजी दिखाते हुए पीड़ित के घर जा पहुंची और पीड़ितों को लेकर थाने पहुंच गई। इतना ही नहीं और बीते 21 जनवरी को पुलिस अधीक्षक अनुराग वत्स से मिलकर भादवी 308 की लगी धारा को 304 में बदलाव आया ।उन्होंने पुलिस अधीक्षक से पीड़ित परिवार के लिए असलहे का लाइसेंस और आर्थिक मदद की भी मांग की। कमला यादव के कारण ही सो रहे अन्य राजनीतिक दलों की नींद टूटी और उन्होंने आनन-फानन में पीड़ित के चौखट पहुंचना शुरू कर दिया। बताते चलें कि कमला यादव प्रगतिशील समाजवादी मोर्चा लोकसभा प्रत्याशी हैं।